ऎतिहासिक गांधी संदेश यात्रा का गवाह बना भीलवाड़ा छात्र-छात्राओं सहित आमजन की भागीदारी से अभूतपूर्व रहा आयोजन

 जयपुर। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के 150वें जयन्ती वर्ष के उपलक्ष्य में जिला स्तर पर आयोजित होने वाले तीन दिवसीय कार्यक्रमों के पहले दिन गुरुवार को भीलवाड़ा ऎतिहासिक ’’गांधी संदेश यात्रा’’ का गवाह बना।  गांधी संदेश यात्रा के लिए की गई जोरदार तैयारियों तथा आमजन व अभिभावकों की उत्साहवर्धक भागीदारी से गांधी संदेश यात्रा ऎतिहासिक बन पडी।  यात्रा में 15000 से अधिक लोग सम्मिलित हुए।  संदेश यात्रा प्रारंभ होने वाले महात्मा गांधी चिकित्सालय परिसर से लगाकर राजीव गांधी ऑडिटोरियम वाले पूरे मार्ग तथा पूरे शहर में प्रातः 8 बजे से दोपहर 2 बजे तक जबरदस्त रेलमपेल रही।  गांधी संदेश यात्रा के कारण शहर में कई स्थानों पुलिस प्रशासन को काफी मशक्कत करनी पडी।  शहर में पूरे दिन गांधी संदेश यात्रा चर्चा का विषय बनी रही तथा आमजन की जुबान पर शहर के इतिहास की सफलतम संदेश यात्रा बनी रही।  गांधी संदेश यात्रा ने शहरवासियों के दिलो दिमाग पर जो अमिट छाप छोडी है वह कई वर्षो तक याद रहेगी।     गुरुवार प्रातः 8 बजे से ही महात्मा गांधी चिकित्सालय परिसर में शहर के निजी एवं सरकारी विद्यालयों के छात्र-छात्राओं का पहुंचना प्रारंभ हो गया।  गांधीजी की वेशभूषा तथा सफेद परिधान में पहुंचने वाले छात्र-छात्राएं अलग ही नजारा पेश कर रहे थे तथा पूरा भीलवाड़ा गांधीमय नजर आ रहा था।  चिकित्सालय परिसर से जिला कलक्टर राजेन्द्र भट्ट, सहाडा के विधायक कैलाश त्रिवेदी, गांधी जीवन दर्शन समिति के जयपुर के संयोजक मनीष शर्मा, सह संयोजक हेमन्त धारीवाल तथा भीलवाडा के संयोजक अक्षय त्रिपाठी तथा सह संयोजक राजेश चौधरी ने जब हरीझण्डी दिखाकर गांधी संदेश यात्रा को रवाना किया तो गांधी जी के संदेशों की तख्तियां लिये तथा नारे लगाते हुए छात्र-छात्राओं का उत्साह देखते ही बनता था।  जिला कलक्टर ने स्वच्छता तथा हाफ गिलास वाटर केम्पेन के तहत जल के बचत की शपथ भी दिलाई। इससे पहले महात्मा गांधी चिकित्सालय परिसर में जिला कलक्टर तथा अतिथियों ने गांधी जी की मूर्ति पर माल्यर्पण किया तथा वहां आयोजित सर्वधर्म प्रार्थना सभा में भी हिस्सा लिया।  प्रार्थना सभा में गांधी जी के प्रिय भजनों का गायन किया गया।   गांधी संदेश यात्रा जिस मार्ग से भी गुजरी मार्ग के दोनो और खडे नागरिकों ने छात्रों के साथ नारे लगाकर उनका उत्साहवर्धन किया।  सडक के दोनों और घरों के उपर खडे नागरिकों ने ऎतिहासिक गांधी संदेश यात्रा की छवि को अपनी आंखों के जरिये दिलो दिमाग पर हमेशा के लिए अंकित कर लिया।   गांधी संदेश यात्रा के राजीव गांधी ऑडिटोरियम पहुंचने पर जिले के शहीदों की वीरांगनाओं ने मोली बंधन खोलकर ’’मोहन से  महात्मा’’ गांधी जीवन दर्शन प्रदर्शनी का शुभारंभ किया। जहाजपुर के शहीद रतनलाल की वीरांगना लाली मीणा, बावडी के शहीद कन्हैया लाल की वीरांगना जमना देवी, अमरवासी के शहीद भैरुलाल की वीरांगना मोहनी देवी, टीकड के शहीद सूबेदार रामसिंह की वीरांगना कन्या देवी, शहीद जयराम सिंह की वीरांगना कस्तूरी देवी, शहीद पुखराज की वीरांगना शिमलादेवी तथा पाटन के शहीद गिरधारी भाटरी की वीरांगना पवन कंवर को प्रदर्शनी का अवलोकन करवाया गया।  प्रदर्शनी में महात्मा गांधी के बालमोहन से महात्मा बनने तक के सफर को दर्शाया गया है। महात्मा गांधी के 150वीं जयन्ती वर्ष समारोह आयोजन समिति के अध्यक्ष जिला कलक्टर राजेन्द्र भट्ट, संयोजक अक्षय त्रिपाठी, सह संयोजक राजेश चौधरी, गांधी जीवन दर्शन समिति जयपुर के मनीष शर्मा तथा अतिथियों ने वीरांगनाओं को सूत की माला पहना, शॉल ओढाकर तथा स्मृति चिन्ह प्रदान कर सम्मानित किया।   गांधी संदेश यात्रा में सम्मिलित 15 हजार से अधिक विद्यालयी एवं महाविद्यालयी छात्र-छात्राओं, मेडिकोज,  महिला एवं बाल विकास विभाग की साथिनों, सहायिकाओं, नर्सिग स्टूडेण्ट, स्काउट गाईड्स सहित बडी संख्या में स्वयंसेवी संगठनों के सदस्यों, गणमान्यजनों, अधिकारियों, कर्मचारियों तथा आम नागरिकों ने गांधी जीवन दर्शन प्रदर्शनी का अवलोकन किया।  जिला स्तर पर आयोजित होने वाले कार्यक्रमों के तहत 28 सितम्बर तक प्रदर्शनी आमजन के लिये प्रातः 10 बजे से सायं 5 बजे तक खुली रहेगी।  विभिन्न सरकारी एवं निजी विद्यालयों के छात्र-छात्राओं को भी इस दौरान प्रदर्शनी का अवलोकन करवाया जायेगा।    28 सितम्बर को राजीव गांधी ऑडिटोरियम में ’’सर्वधर्म समभाव’’ संगोष्ठी के साथ ही कार्यक्रमों का समापन होगा।  27 सितम्बर को माणिक्य लाल वर्मा राजकीय महाविद्यालय में, तथा विद्यालय स्तर की सेठ मुरलीधर मानसिंहका राजकीय बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय में आयोजित होनेवाली प्रतियोगिताओं के तहत ’’गांधी के सपनों का भारत’’ विषय पर चित्रकला प्रतियोगिता, ’’गांधी अतीत ही नहीं भविष्य भी है’’ विषय पर निबंध प्रतियोगिता तथा ’’सद्भावना और विकास’’  विषय पर भाषण प्रतियोगिता के विजेताओं को भी समापन समारोह में प्रमाण पत्र तथा स्मृति चिन्ह प्रदान कर पुरस्कृत किया जायेगा।   समापन समारोह में गांधी संदेश यात्रा में श्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले प्रतिभागियों, विशिष्ठजनों, अतिथियों तथा तीन दिवसीय कार्यक्रमों में सहयोग करने वालों को भी स्मृति चिन्ह एवं प्रमाण पत्र प्रदान किये जायेंगे। 
_x000D_ जिला एवं सत्र जज ने किया प्रदर्शनी का अवलोकनः

_x000D_ _x000D_

 गांधी जीवन दर्शनी प्रदर्शनी का गुरुवार सायं जिला एवं सत्र न्यायाधीश प्रकाश चन्द्र पगारिया ने भी अवलोकन किया। सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के सहायक निदेशक गौरीकान्त शर्मा तथा जिला संयोजक अक्षय त्रिपाठी ने उन्हें प्रदर्शनी का अवलोकन करवाया। उन्होंने छात्र-छात्राओं के लिये प्रदर्शनी को उपयोगी बताया।


सांगरी टाइम्स हिंदी न्यूज़ के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और टेलीग्राम पर जुड़ें .
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBEचैनल को विजिट करें