सरपंच पद के लिए हॉट सीट बनी नई ग्राम पंचायत लोलो की बेरी

पंचायती राज आम चुनाव 2020

_x000D_ _x000D_

मीठङा खुर्द(निप्र) से अलग होकर बनी नवसृजित ग्राम पंचायत लोलो की बेरी अब सबसे हॉट बन चुकी है।वजह साफ है कि सरपंच के लिए यहा दिग्गज नेता अचलाराम जाणी,केशराराम साऊ,युवा वर्ग से रामाराम बेनीवाल चुनाव लड़ने की चर्चा राजनीतिक हल्कों जोरो पर है।क्योंकि दबंग नेता अचलाराम जाणी का राजनीतिक मे कद काफी बङा है।जाणी भारतीय किसान संघ के बाङमेर जिलाध्यक्ष भी रहे है ओर किसानों के बिजली समस्या हो या ऋण माफी हमेशा किसानो के साथ मिलकर जिला मुख्यालय,तहसील स्तर व संभाग तक किसानों की हक की लड़ाई लङकर धरना-प्रदर्शन हो या अनशन हमेशा सक्रिय भूमिका रही।इतना ही नही कई बार फसल बीमा क्लेम को लेकर किसानों को साथ लेकर जयपुर तक कुच किया ओर किसानों की मांगे पूरी करवाकर वापस लौटे।अचलाराम जाणी बङे बङे राजनेताओ मंत्रीयो से सीधा सम्पर्क कर हमेशा किसानों के लिए अपनी बात रखकर अवगत करवाते रहते है।ओर राजनीति के सफर मे साफ-सुथरी छवि व निष्पक्ष,निर्विवाद नेता के रूप मे जिले भर मे विशेष पहचान रखते है।इससे पूर्व किसान संघ से जुड़े होने के बावजूद एक बार जनता के कहने पर मीठड़ा खुर्द मे सरपंच का चुनाव लङा ओर विजयी हुए।सरपंच बनने के बाद अचलाराम जाणी ने गांव के चहुंमुखी विकास के लिए जो माडल बनाया जनता आज भी याद करती है इन्होंने सालो से अटके सैकङो परिवारों के कटाण रास्ते जैसी समस्या से निजात दिलाई।गांव मे जनता की मूलभूत सुविधा व सरकारी जनकल्याणकारी योजनाओ का फायदा कैसे मिले इसके लिए इन्होंने विकास के आयात स्थापित किये।ओर धोरीमन्ना समूचे उपखंड मे विकास के मामले मे मीठङा अव्वल रहा।जाणी ने कभी बजट खर्च करने के बदले किसी भी अधिकारी को एक रूपये की रिश्वत नही है जो बाकी पंचायतो के मुकाबले एक मिसाल कायम की।ओर इनकी हमेशा सोच रही है गरीब जनता व किसानों भला कैसे हो हमेशा कार्य करने मे तत्पर रहते है।इस किसान नेता एक खूबी यह भी रही है कि जनता के कहने पर ही चुनाव लङा।यही वजह रही कि पिछला चुनाव नही लङा ओर कमला चौधरी को मौका दिया ओर भारी बहुमत से चुनाव जीती लेकिन आमजन की आकांक्षाओ पर खरी नही उतर पाई।जिसका आमजन को बङा अफसोस है।अब लोलो की बेरी नई पंचायत बनने के बाद जनता चाहती है कि अचलाराम जाणी के रूप सर्वसम्मति से सरपंच बने।ताकि नई ग्राम पंचायत मे विकास गति तेजी से आगे बढे।आमजनता लगातार बाकी दावेदारो के साथ मान मनौवल कर एक बार पुन:अचलाराम जाणी को सरपंच बनाना चाहती है हालांकि मोदी फेक्टर यानी युवा वर्ग चाहता है सरपंच कोई युवा पीढ़ी से हो लेकिन अचलाराम जाणी परिवार से धोली चौधरी के रूप मे युवाओ को खुश करने के लिए विकल्प तलाशा जा सकता है।लोलो की बेरी की पचास प्रतिशत जनता की भावना है कि चुनाव निर्विरोध हो लेकिन स्थिति साफ नामांकन दाखिल करने के बाद ही हो पायेगी।अचलाराम जाणी चुनाव लङेगे या नही उन्होंने फैसला जनता पर छोड़ दिया है।लेकिन राजनीतिक सूत्रो का व लोलो की बेरी की जनता का मानना है कि निर्विरोध सरपंच चुन लिया जाएगा।यहा पर चुनाव होने की संभावना अब धीरे-धीरे कम होती जा रही है।अचलाराम जाणी ने भी कहा कि सरपंच कोई हो लेकिन किसी योग्य युवा व्यक्ति को बनाया जाये जो कुशल नेतृत्व देने मे सक्षम हो।अब यह जनता द्वारा 6 तारीख को गांव की मिटिंग मे ही तय हो पायेगा।


सांगरी टाइम्स हिंदी न्यूज़ के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और टेलीग्राम पर जुड़ें .
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBEचैनल को विजिट करें