10 हजार लीटर पानी की क्षमता वाले इस तालाब में पानी को सोखने से रोकने के लिए बिछाया गया माइक्रो लाइनर



बायतु/बाड़मेर,14 अक्टूबर। बायतू के गंगासरा में राजस्व मंत्री हरीश चौधरी की अभिनव पहल रंग लाई है। महात्मा गांधी नरेगा योजनान्तर्गत 35 लाख की लागत से माॅडल तालाब का निर्माण होने से ग्रामीणों को पेयजल संकट से राहत मिली है।
बायतू पनजी सरपंच रिड़मल राम ने बताया कि महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के तहत लाधाणियों की ढाणी स्थित गंगासरा नाड़ी को मॉडल तालाब विकसित करने को लेकर राजस्व मंत्री एवं स्थानीय विधायक हरीश चौधरी की मंशा जताई थी।

जनवरी माह में राजस्व मंत्री हरीश चौधरी ने गंगासरा नाड़ी का निरीक्षण के बाद तय किया कि इसे मॉडल तालाब के रूप में विकसित करने के उद्देश्य से विकास कार्य करवाया जाए। राजस्व मंत्री चैधरी के निर्देशों के अनुरूप गंगासरा नाड़ी के निर्माण के लिए 35 लाख रुपए की कार्य योजना तैयार कर धरातल पर क्रियान्विति की गई है।
 
पिछले महीने हुई भरपूर बारिश से यह पूरी तरह से पानी से लबालब हो गई। राजस्व मंत्री चौधरी ने इस गंगासरा नाड़ी को एक मजबूत और बेहद उपयोगी तालाब निर्माण का सपना देखा था। जो अब पूरा हो गया है। पानी की आवक को देखकर ग्रामीण बेहद खुश है। उनके मुताबिक तालाब का पानी कई माह तक ग्रामीणों एवं मवेशियों की प्यास बुझाएगा।
 
तालाब निर्माण में नई तकनीक का इस्तेमालः गंगासरा नाड़ी का निर्माण के दौरान नई तकनीकी का प्रयोग करते हुए बड़ौदा से लाया गया हजार माइक्रो लाइनर बिछाया। जिससे तालाब में पानी को सोखने से रोकने में मददगार साबित होगा। इसके बाद ऊपर कंक्रीट से मजबूत तली तैयार करने के बाद जोधपुर स्टोन से अंदर की दीवार को बांधा गया। इस नाड़ी की गहराई 4 मीटर है एवं 100×100 लम्बाई-चैड़ाई है।


सांगरी टाइम्स हिंदी न्यूज़ के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और टेलीग्राम पर जुड़ें .
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBEचैनल को विजिट करें