एक संदेश उन लोगों के लिए जो अपने घरों से दूर हैं : गजेंद्र गहलोत

जहां बात कोरोनावायरस की है तो आप सब भली भांति इस वायरस से परिचित हैं एक ऐसा वायरस जिसने सिर्फ चीन ही नहीं बल्कि पूरे विश्व को धीरे-धीरे अपनी पकड़ में लेना शुरू कर दिया है इसी वजह से वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन ने इसे वैश्विक महामारी का नाम दिया है जो पूरे विश्व को अपनी चपेट में ले रही है ऐसे में इस का दबदबा आज भारत में भी बन रहा है परंतु सरकार की तमाम कोशिशें एवं किए गए उच्चतम प्रयास भी आज हमारी मदद के बिना संभव नहीं है क्योंकि इस महामारी ने विश्व में हेल्थ डिपार्टमेंट में दूसरा स्थान रखने वाले इटली जैसे जाने-माने देशों के भी हाथ खड़े करवा दिए आज यह भारत देश में भी पहुंच चुका है और इस तरह फैल रहा है जैसे मानो अगर इस पर जल्द ही कंट्रोल नहीं किया गया तो यह संपूर्ण देश का सर्वनाश कर देगा 1920 में आई इसी भांति की एक महामारी ने देश के कितने ही लोगों की जान ले ली थी लोगों द्वारा सुनिधि बात के अनुसार पिछली महामारी इतनी भयंकर थी कि लोगों को जलाने के लिए लकड़िया तक नसीब नहीं हुई थी ऐसे में मैं बात करना चाहता हूं उन लोगों की जो अपने घर से दूर हैं और लॉक डाउन की वजह से अपने घर नहीं पहुंच पा रहे हैं उन लोगों को सबसे पहले तो मैं धन्यवाद देना चाहूंगा और उनसे एक छोटी सी अपील करूंगा कि वह जहां है वही रहे क्योंकि आपका उसी जगह रुके रहना सिर्फ आप ही के लिए नहीं परंतु आपके परिवार आपकी कॉलोनी आपके समाज और आपके गांव सभी की सुरक्षा है आपका परिवार सुरक्षित है यहां आप परंतु अगर आप यहां से जाने की कोशिश में अपने परिवार से मिलने की कोशिश में जाने अनजाने में संक्रमित होकर पहुंचते हैं तो यह आपके लिए और उसी के साथ आपके परिवार वहां रहने वाले समाज और संपूर्ण गांव सभी को भी संक्रमित कर सकता है और सभी की जान खतरे में आ सकती है सरकार द्वारा बार-बार कहने पर भी कुछ लोग बाहर निकल रहे हैं यह एक नासमझी की ओर इशारा करता है क्योंकि आप ही कैसे वायरस से लड़ रहे हैं जिसका इलाज अभी तक कोई देश नहीं निकाल पाया अबे कैसे दुश्मन से लड़ने जा रहे हैं जिसकी ताकत एवं कमजोरी दोनों ही आप नहीं जानते इससे सुरक्षा का एक ही रास्ता है की आप अपने घरों में रहें साथ रहें सुरक्षित रहें ताकि आपके साथ साथ आप दूसरों को भी सुरक्षित रख सकते हैं सरकार द्वारा जो भी फैसला लिया जाएगा वह फैसला ही आपकी सुरक्षा और आपकी जिम्मेदारी होगी जिसे निभा कर आपको सरकार की एवं संपूर्ण देश की मदद करनी है इस वायरस से लड़ने में देश में यह वायरस आग की तरह फैल रहा है और इसका ना कोई इलाज है और ना ही अंदाजा पर इससे लड़ा जा सकता है सभी द्वारा एक साथ मिलकर आप अपने घरों में रहे जिससे यह वायरस जहां तक है वहीं तक सीमित रहे मैं जानता हूं अभी बहुत लोग ऐसे हैं जो अपनी जन्म भूमि को छोड़ बाहर व्यापार अथवा अध्यन हेतु रहते हैं एवं एकदम ही सरकार के इस फैसले से वह अपने घर नहीं जा पा रहे हैं और जाहिर सी बात है कि उन्हें अपने परिवार की चिंता हो रही है और उनके परिवार को उनकी परंतु आपका वही रहना जहां हैं...वहां रहना आपके एवं आपके परिवार दोनों के लिए ही सुरक्षित है सभी से अनुरोध देश में चले ही इस बीमारी से लड़ने में सरकार की मदद करें उनके दिए गए आदेशों की पालना करें जिससे इस पर काबू पाया जा सके जहां तक हो हाथों की सफाई करते रहे बार-बार मुंह को ना छुए, बाहर से लाई गई किसी भी चीज को साफ धोकर और अगर मुमकिन हो तो गर्म पानी में धोकर उपयोग में लें अभी कुछ कंपनियां जो लोग दो उनके बाद में भी कार्यरत हैं जोकि सरकार के आदेशों की अवहेलना करते हुए कार्य कर रही है उन सब से मेरा अनुरोध है कि अगर आवश्यक हैं और आपके जाने से अथवा कार्य करने से किसी की सहायता हो रही है तो जाए परंतु अगर आपकी कंपनी सिर्फ पैसों के लिए कार्य कर रही है और उसकी वजह से आपको लगता है कि यह आवश्यक नहीं है परंतु फिर भी सरकार के दिए गए आदेशों की हवेल ना कर वह कंपनी चल रही है तो आप से अनुरोध है कि आप स्वयं समझदार बने एवं घर रहे क्योंकि अगर आवश्यक है तो आपको जाना चाहिए परंतु अगर बिना आवश्यकता के वह कंपनी पैसों के लिए अगर कार्य कर रही हैं तो उसमें कार्यरत कर्मचारियों से मेरा अनुरोध है कि वह अपने घर अपने परिवार के साथ रहें कुछ दिन कार्य न करने से आपका ज्यादा नुकसान नहीं होगा परंतु अगर किसी कारण बस संक्रमित हो गए तो आप परिवार और आसपास वालों को भी खतरे में डाल सकते हैं मैं यह नहीं कहता कि सरकार ने जिन्हें आदेश दिए हैं जोकि लगे कर्फ्यू में अथवा इस बीमारी के समय में देश सेवा में लगे हैं वह यह कार्य बंद करें मेरे कहने का अर्थ एवं भाव सिर्फ इतना है कि अगर आप अथवा आपकी कंपनी को सरकार द्वारा बंद करने के नियमों में भी चला रहे हैं अथवा आप जहां कार्यरत हैं वह चला रहे हैं तो आप सभी से मेरा एक ही अनुरोध है कि आप घर रहे सुरक्षित रहें सरकार हमेशा आपकी सहायता के लिए जो भी होंगे उचित कदम उठाएगी परंतु इस वक्त हमें सरकार का साथ देना है एवं एकजुट हो गए इस बीमारी को अपने देश से बाहर करना है जाने अनजाने में अगर मैंने कुछ शब्द गलत लिखे हो तो मैं उसके लिए क्षमा का प्रार्थी हूं कहना आवश्यक हो गया था क्योंकि देश एवं देश के नागरिक सभी मिलकर ही इस देश की हिफाजत अच्छे से कर सकते हैं इस वक्त संपूर्ण विश्व की नजर भारत पर हैं मैं यह नहीं कहूंगा कि मैं राजनीति अथवा किसी प्रभोलन की वजह से यह कह रहा हूं परंतु 22 मार्च को संपूर्ण देश ने एक बार कहते हैं जनता कर्फ्यू मैं संपूर्ण सहयोग दिया उससे यह साबित नहीं होता कि किसी सरकार के कहने पर बंद रहा यह भारत देश की जनता की वजह से बंद रहा उनकी एकजुटता एवं किसी भी बड़ी विपदा से लड़ने की उस हिम्मत की वजह से संभव रहा सभी से अनुरोध है इसी तरह हमें सरकार द्वारा दिए गए आदेशों की पालना करते हुए स्वयं एवं आसपास के सभी लोगों को सुरक्षित करना है सरकार ने अभी सहायता हेतु भी कहा है और  इसमें बहुत  भामाशाह एवं भाग्यशालीयो ने सहयोग किया है अगर यथासंभव प्रयास में आप भी देश की सुरक्षा एवं सहायता में योगदान देना चाहें तो सिर्फ एक छोटा सा कार्य कर सकते हैं जिसमें आपके आसपास में रहने वाले ऐसे लोग जो सुबह कार्य करके शाम को खाना खा पाते हैं अथवा जिनकी स्थिति दयनीय है एवं भोजन की भी व्यवस्था नहीं करवा पा रहे उन तक आप भोजन पहुंचाएं उनकी सहायता करें अगर संभव हो तो उन्हें मास्क  पहुंचाए एवं उनकी भी सुरक्षा करें इससे वह भी सुरक्षित रहेंगे एवं देश में कोई भूखा ना सोएगा बस इतना ही कहना चाहूंगा इस वायरस से बचाव ही इसका उपचार है जहां तक हो सके आप इसमें सरकार की मदद करें एवं हो सके तो अपने आसपास में रहने वाले गरीब एवं निर्धन लोगों की सहायता करें उन्हें भूखा ना सोने दे।

_x000D_ _x000D_


_x000D_ गजेंद्र गहलोत
_x000D_ डायरेक्टर आई कॉर्न इंटरनेट

_x000D_ _x000D_

 

_x000D_ _x000D_

[ Note: This is authors own voice Sangri Times is not agree/responsible to the authors content/third party content.]


सांगरी टाइम्स हिंदी न्यूज़ के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और टेलीग्राम पर जुड़ें .
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBEचैनल को विजिट करें