विश्व पशु कल्याण दिवस पर वर्कशॉप "तरंग" का आयोजन

बच्चो ने पेंटिंग के माध्यम से प्रकट किया जांनवरो के पार्टी प्यार 

आज समय की दरकार है की पशु कल्याण मानकों में सुधार किया जाये ताकि जानवरो का जीवन सक्षम और बेहतर हो सके. विश्व पशु कल्याण दिवस के अवसर पर विपिन प्रियंका प्रोडक्शन ने २० बच्चो के साथ "तरंग" नामक वर्कशॉप का आयोजन किया, जिसमे बच्चो को जानवरों के प्रति प्यार प्रकट करने के लिए प्रेरित किया गया. बच्चो ने भी पेंटिंग के माध्यम से लोगो को यह सन्देश दिया की जानवर हमारे जीवन की गुणवत्ता में वृद्धि करते हैं. 

विपिन प्रियंका प्रोडक्शन के मैनेजिंग डायरेक्टर डॉ विपिन अग्निहोत्री ने इस मौके पर बताया की पशु कल्याण के लिए अनेकों कानूनों और अधिनियमों की व्यवस्था की गयी है लेकिन उनका क्रियान्वन आज भी एक ऐसा मुद्दा है जिस पर विचार करने की ज़रुरत है.

सामाजिक कार्यकर्त्ता रेहान सिंह के मुताबिक मानव और जानवर एक-दूसरे पर मानव सभ्यताओं से पहले ही प्रभाव डालते हैं। मानव जीवन शैली में परिवर्तन का एक ही पारिस्थितिक तंत्र, जिसका हम हिस्सा हैं, के कारण जानवरों के जीवन पर सीधा प्रभाव पड़ता है। गुज़रते समय के साथ मानव सभ्यता ने जितनी तेजी से कदम उठाया है उसके परिणामस्वरूप कई पशु प्रजातियों के जीवन पर हानिकारक प्रभाव पड़ा है। मनुष्य के विचारों के विकास ने भी यह समझने में योगदान दिया है कि जानवर भी संवेदनशील प्राणी हैं और उनके कल्याण का महत्व सर्वोच्च है।


सांगरी टाइम्स हिंदी न्यूज़ के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और टेलीग्राम पर जुड़ें .
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBEचैनल को विजिट करें