स्वामी चिन्मयानंद यौन शोषण के मामले हुए गिरफ़्तार

 

_x000D_ _x000D_

उत्तर प्रदेश। पूर्व केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेता को  शुक्रवार को विशेष जांच दाल (एसआईटी) ने गिरफ्तार कर लिया। चिन्मयानंद का असली नाम कृष्णपाल सिंह है जिनका जन्म उत्तर प्रदेश के गोंडा में 3 मार्च 1947 को हुआ था. जिनका अब नाम स्वामी चिन्मयानंद है।  पूर्व केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेता को  शुक्रवार को विशेष जांच दल (एसआईटी) ने गिरफ्तार कर लिया। बता दे की शाहजहांपुर के लॉ कॉलेज की छात्रा  ने स्वामी चिन्मयानंद पर यौन शोषण का आरोप लगाया है. रिपोर्ट्स के मुताबिक़ 8 साल पहले भी स्वामी चिन्मयानंद की एक शिष्या ने भी उन्हें दोषी करार करते हुए दुष्कर्म का मामला दर्ज कराया था. पर तब उन पर ज़्यादा कार्यवाही नहीं की गयी. लेकिन अब लॉ स्टूडेंट के साथ दुष्कर्म में उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया है. जिसके बाद एसआईटी से पूछताछ के दौरान चिन्मयानंद ने कबूला और कहा की " मै अपने किए पर शर्मिंदा हूँ ".

_x000D_ _x000D_

लॉ छात्रा का केस विस्तार से 

_x000D_ _x000D_

23 अगस्त- एसएस लॉ कॉलेज की 23 वर्षीय छात्रा अचानक अपने हॉस्टल से लापता हुई। 
_x000D_ 24 अगस्त- छात्रा का एक वीडियो सामने आया, जिसमें उसने अपहरण, यौन शोषण का आरोप स्वामी चिन्मयानंद पर लगाया।
_x000D_ 25 अगस्त- छात्रा के पिता ने चिन्मयानंद के खिलाफ अपहरण और आपराधिक धमकी का मामला दर्ज कराने के लिए पुलिस को तहरीर दी। 
_x000D_ 26 अगस्त- स्वामी चिन्मयानंद के वकील ओम सिंह ने पांच करोड़ की फिरौती मांगने के मामले में अज्ञात पर रिपोर्ट दर्ज कराई। उसी दिन छात्रा की बरामदगी के लिए तीन टीमें गठित की गईं।
_x000D_ 27 अगस्त- स्वामी चिन्मयानंद व अन्य के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की गई। 
_x000D_ 30 अगस्त- छात्रा को उसके एक दोस्त के साथ पुलिस ने राजस्थान से बरामद कर लिया। उसी दिन छात्रा को सुप्रीम कोर्ट में पेश किया गया। 
_x000D_ 12 सितंबर- एसआईटी ने स्वामी चिन्मयानंद से करीब सात घंटे तक पूछताछ की। उनके शाहजहांपुर से बाहर जाने पर भी रोक लगा दी गई है।
_x000D_ 16 सितंबर- शाहजहांपुर में जेएम प्रथम कोर्ट में छात्रा का कलमबंद बयान दर्ज किया गया। उसी दिन स्वामी चिन्मयानंद की हालत अचानक बिगड़ गई।
_x000D_ 18 सितंबर- चिन्मयानंद के खिलाफ दुष्कर्म की रिपोर्ट दर्ज न होने से नाराज छात्रा अपने पिता व भाई के साथ इलाहाबाद हाईकोर्ट पहुंची। स्वामी की गिरफ्तारी नहीं होने पर खुदकुशी करने की धमकी दी। 
_x000D_ 19 सितंबर- स्वामी चिन्मयानंद की हालत ज्यादा बिगड़ने पर मेडिकल कॉलेज में भर्ती किया गया, जहां से उन्हें लखनऊ रेफर कर दिया गया। 
_x000D_ 20 सितंबर- एसआईटी ने चिन्मयानंद को उनके आश्रम से गिरफ्तार कर लिया। चिन्मयानंद ने एसआईटी की पूछताछ में अपना जुर्म स्वीकार किया। 

_x000D_ _x000D_


_x000D_  

_x000D_ _x000D_

  


सांगरी टाइम्स हिंदी न्यूज़ के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और टेलीग्राम पर जुड़ें .
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBEचैनल को विजिट करें