थार की बेटी के नाम बड़ी कामयाबी, राउजी की ढाणी की बेटी प्यारी का भारतीय सेना में कमीशन रैंक के लिए हुआ चयन

बायतू: आज के युग में बेटियां बेटो के साथ कदम से कदम मिलाकर चल रही है। कभी शिक्षा के क्षेत्र में पिछड़ा माना जाने वाला सीमावर्ती जिला बाड़मेर अब बिल्कुल बदल गया है, ओर यहाँ की बेटियां अब अपने नाम का परचम पहराने लगी है।

बायतू के छोटे से गाँव राऊजी की ढाणी काउखेड़ा की बेटी ने बड़ी कामयाबी हासिल की है। प्यारी चौधरी पुत्री किस्तूरा राम का चयन भारतीय सेना के मेडिकल विभाग में ऑफिसर वर्ग में लेफ्टिनेंट पद के लिए हुआ है। इस होनहार बेटी पर आज पूरा बायतू व बाड़मेर नाज़ कर रहा है। प्यारी चौधरी की प्रारंभिक शिक्षा पटियाला के आर्मी स्कूल में हुई। 


इस चयन के लिए लिखित परीक्षा में मेरिट प्राप्त के बाद इंटरव्यू व मेडिकल टेस्ट में सफल होने के बाद पूरी मेरिट के आधार पर सेना के मेडिकल विभाग में ऑफिसर रैंक में लेफ्टिनेंट के पद पर नियुक्ति प्राप्त की है। प्यारी चौधरी के पिता किस्तूरा राम भारतीय थल सेना में वर्तमान सूबेदार के पद पर 47 आर्मड रेजीमेंट में सेवारत है। 

उल्लेखनीय है कि बाड़मेर जिले की प्रतिभाएं शिक्षा के क्षेत्र में UPSC, RPSC, AIPMT, IIT, इंजीनिरिंग, मेडिकल कोर्सेज एवं सैन्य परीक्षाओं में परचम लहरा रहे हैं राज्य में उच्च शिक्षा की रैंकिंग के अग्रणी जिलों में शामिल हैं। जिले में शिक्षा के साथ खेल में भी बाड़मेर जिले से राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी निकले हैं।

कड़ी और विकट परिस्थितियों के बावजूद प्रतिभाएं मेहनत और लगन से परचम लहरा रही हैं, बाड़मेर जिले में पिछले कुछ सालों में शिक्षा, खेल, व्यवसाय के प्रति जागरूकता बढ़ी हैं जिससे भविष्य में उच्च एवं बेहतर परिणाम मिलेंगे।


सांगरी टाइम्स हिंदी न्यूज़ के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और टेलीग्राम पर जुड़ें .
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBEचैनल को विजिट करें